top of page
  • Writer's pictureELA

Modesty | मर्यादा | ਮਾਦਾ | மாடஸ்டி | ಮೋಡೆಸ್ಟಿ | মোডাস্টি | ન્યાય | नम्रता







 

जिस प्रकार किसी को मनचाही स्पीड में गाड़ी चलाने का अधिकार नहीं है, क्योंकि रोड सार्वजनिक है। ठीक उसी प्रकार किसी भी लड़के या लड़की को मनचाही अर्धनग्नता युक्त वस्त्र पहनने का अधिकार नहीं है क्योंकि जीवन सार्वजनिक है। एकांत रोड में स्पीड से चलाओ, एकांत जगह में अर्द्धनग्न रहो। मगर सार्वजनिक जीवन में नियम मानने पड़ते हैं।

नग्नता यदि मॉडर्न होने की निशानी है, तो सबसे मॉडर्न जानवर है जिनकी संस्कृति में कपड़े ही नही है। अतः जानवर से रेस न करें, सभ्यता व संस्कृति को स्वीकारें। कुत्ते को अधिकार है कि वह कहीं भी यूरिन पास कर सकता है, सभ्य इंसान को यह अधिकार नहीं है। उसे सभ्यता से बन्द टॉयलेट उपयोग करना होगा। इसी तरह पशु को अधिकार है नग्न घूमने का, लेकिन सभ्य स्त्री या पुरुष को उचित वस्त्र का उपयोग सार्वजनिक जीवन में करना ही होगा।



 

ਜਿਵੇਂ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਲੋੜੀਂਦੀ ਗਤੀ ਤੇ ਵਾਹਨ ਚਲਾਉਣ ਦਾ ਅਧਿਕਾਰ ਨਹੀਂ ਹੈ, ਕਿਉਂਕਿ ਸੜਕ ਜਨਤਕ ਹੈ. ਇਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ, ਕਿਸੇ ਵੀ ਲੜਕੇ ਜਾਂ ਲੜਕੀ ਨੂੰ ਉਹ ਕੱਪੜੇ ਪਾਉਣ ਦਾ ਅਧਿਕਾਰ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ ਜੋ ਉਹ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹਨ, ਕਿਉਂਕਿ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਜਨਤਕ ਹੈ. ਇਕਾਂਤ ਵਾਲੀ ਸੜਕ ਤੇ ਡ੍ਰਾਇਵ ਕਰੋ, ਇਕਾਂਤ ਜਗ੍ਹਾ ਤੇ ਰਹੋ. ਪਰ ਜਨਤਕ ਜੀਵਨ ਵਿਚ ਨਿਯਮਾਂ ਦੀ ਪਾਲਣਾ ਕਰਨੀ ਪੈਂਦੀ ਹੈ.

ਜਦੋਂ ਖਾਣਾ ਕਿਸੇ ਦੇ ਪੇਟ ਵਿਚ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਸਿਰਫ ਇਕ ਵਿਅਕਤੀ ਦੇ ਆਪਣੇ ਹਿੱਤ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ ਹੀ ਬਣਾਇਆ ਜਾਏਗਾ, ਪਰ ਜਦੋਂ ਉਹ ਭੋਜਨ ਪਰਿਵਾਰ ਦੁਆਰਾ ਖਾਧਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਤਾਂ ਹਰ ਕਿਸੇ ਦੀ ਦਿਲਚਸਪੀ ਅਤੇ ਪਛਾਣ ਦੇਖਣੀ ਹੋਵੇਗੀ.


ਅਰਧ-ਕਪੜੇ ਪਹਿਨੇ ਕੁੜੀਆਂ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਉਠਾਉਣਾ ਉਨਾ ਹੀ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ ਜਿੰਨਾ ਸ਼ਰਾਬੀ ਡਰਾਈਵਿੰਗ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਨੂੰ ਚੁੱਕਣਾ. ਦੋਵਾਂ ਦਾ ਇਕ ਦੁਰਘਟਨਾ ਹੋਏਗਾ.

ਤੁਹਾਡੀ ਇੱਛਾ ਸਿਰਫ ਘਰ ਦੀਆਂ ਕੰਧਾਂ ਵਿੱਚ ਜਾਇਜ਼ ਹੈ. ਜਿਉਂ ਹੀ ਤੁਸੀਂ ਜਨਤਕ ਜੀਵਨ ਤੋਂ ਜਨਤਕ ਜੀਵਨ ਤੋਂ ਬਾਹਰ ਨਿਕਲ ਜਾਂਦੇ ਹੋ, ਸਮਾਜਕ ਮਾਣ, ਭਾਵੇਂ ਲੜਕਾ ਹੋਵੇ ਜਾਂ ਲੜਕੀ, ਨੂੰ ਰੱਖਣਾ ਪਏਗਾ. ਇੱਕ ਛੋਟੀ ਜਿਹੀ ਚੋਟੀ ਪਾ ਕੇ, ਬੱਚਿਆਂ ਦੀ ਇੱਕ ਚੀਰਵੀਂ ਚੋਟੀ ਪਾ ਕੇ, ਫੈਸ਼ਨ ਦੇ ਨਾਮ ਤੇ ਤੁਰਨਾ, ਭਾਰਤੀ ਸੰਸਕ੍ਰਿਤੀ ਦਾ ਹਿੱਸਾ ਨਹੀਂ ਹੈ.


ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਵੀ ਗਿਟਾਰ ਜਾਂ ਵੀਨਾ ਵਰਗਾ ਇਕ ਸਾਧਨ ਹੈ, ਜ਼ਿਆਦਾ ਤੰਗ ਕਰਨਾ ਗਲਤ ਹੈ ਅਤੇ ਬਹੁਤ ਜ਼ਿਆਦਾ ationਿੱਲ ਦੇਣਾ ਗ਼ਲਤ ਹੈ.

ਆਦਮੀ ਅਤੇ Bothਰਤ ਦੋਵਾਂ ਦਾ ਸਸਕਾਰ ਕਰਨ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ, ਵਾਹਨ ਦੇ ਦੋਵੇਂ ਪਹੀਆਂ ਨੂੰ ਸੰਸਕਾਰਾਂ ਦੀ ਹਵਾ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ, ਜੇ ਇਕੋ ਪਿੰਕਚਰ ਹੋਇਆ ਤਾਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਪਰੇਸ਼ਾਨ ਹੋਵੇਗੀ.

ਜੇ ਨਗਨਤਾ ਆਧੁਨਿਕ ਹੋਣ ਦੀ ਨਿਸ਼ਾਨੀ ਹੈ, ਤਾਂ ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਆਧੁਨਿਕ ਜਾਨਵਰਾਂ ਦੇ ਸਭਿਆਚਾਰ ਵਿਚ ਕੋਈ ਕੱਪੜੇ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੇ. ਇਸ ਲਈ, ਜਾਨਵਰਾਂ ਨਾਲ ਦੌੜ ਨਾ ਕਰੋ, ਸਭਿਅਤਾ ਅਤੇ ਸਭਿਆਚਾਰ ਨੂੰ ਸਵੀਕਾਰੋ. ਕੁੱਤੇ ਨੂੰ ਕਿਤੇ ਵੀ ਪਿਸ਼ਾਬ ਪਾਸ ਕਰਨ ਦਾ ਅਧਿਕਾਰ ਹੈ, ਇੱਕ ਸੱਭਿਅਕ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਇਹ ਅਧਿਕਾਰ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ. ਉਸਨੂੰ ਇੱਕ ਸਭਿਅਕ ਬੰਦ ਟਾਇਲਟ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰਨੀ ਪਏਗੀ. ਇਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ, ਜਾਨਵਰ ਨੂੰ ਨੰਗਾ ਘੁੰਮਣ ਦਾ ਅਧਿਕਾਰ ਹੈ, ਪਰ ਇਕ ਨੇਕ womanਰਤ ਜਾਂ ਆਦਮੀ ਨੂੰ ਜਨਤਕ ਜੀਵਨ ਵਿਚ mustੁਕਵੇਂ ਕੱਪੜੇ ਇਸਤੇਮਾਲ ਕਰਨੇ ਚਾਹੀਦੇ ਹਨ.

ਇਸ ਲਈ ਨਿਮਰਤਾ ਸਹਿਤ ਬੇਨਤੀ ਹੈ, ਜਨਤਕ ਜੀਵਨ ਦੀਆਂ ਹੱਦਾਂ ਤੋਂ ਪਾਰ ਨਾ ਹੋਵੋ, ਸਿਵਲ ਰਹੋ.


ਆਜ਼ਾਦੀ ਵਿਚਾਰਾਂ ਵਿਚ ਹੋਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ. ਆਜ਼ਾਦੀ ਦੇਸ਼, ਧਰਮ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਹਿੱਤਾਂ ਲਈ ਕੀਤੇ ਕੰਮ ਵਿਚ ਹੋਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ. ਜਿਥੇ ਮਾਤਾ ਪਦਮਿਨੀ 16000 ਮਾਪਿਆਂ ਨਾਲ ਜੌਹਰ ਕਰਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਕਿ ਕੋਈ ਵੀ ਕਿਸੇ ਦੀਆਂ ਭੈੜੀਆਂ ਅੱਖਾਂ ਵਿੱਚ ਪੈ ਨਾ ਜਾਵੇ. ਅੱਜ, ਉਸੇ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਨਗਨਤਾ ਬਾਜ਼ਾਰਾਂ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਕੀਤੀ ਗਈ ਹੈ.

ਜਿੱਥੇ ਸਾਰਾ ਸੰਸਾਰ ਸਾਡੇ ਸਭਿਆਚਾਰ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਅਸੀਂ ਆਪਣੀਆਂ ਸੀਮਾਵਾਂ ਨੂੰ ਭੁੱਲ ਰਹੇ ਹਾਂ. ਅਸੀਂ ਕਿੱਧਰ ਜਾ ਰਹੇ ਹਾਂ? ਸੋਚੋ ...

ਅੱਗੇ ਤੁਸੀਂ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ.


 

சாலை பொதுவில் இருப்பதால், விரும்பிய வேகத்தில் வாகனம் ஓட்ட யாருக்கும் உரிமை இல்லை. அதேபோல், எந்தவொரு பையனுக்கோ பெண்ணுக்கோ அவர்கள் விரும்பும் ஆடைகளை அணிய உரிமை இல்லை, ஏனென்றால் வாழ்க்கை பொது. ஒதுங்கிய சாலையில் ஓட்டுங்கள், ஒதுங்கிய இடத்தில் தங்கவும். ஆனால் பொது வாழ்க்கையில் விதிகள் பின்பற்றப்பட வேண்டும்.

ஒருவரின் சொந்த வயிற்றில் உணவு செல்லும் போது, ​​ஒருவரின் சொந்த நலனுக்கேற்ப அது தயாரிக்கப்படும், ஆனால் அந்த உணவை குடும்பத்தினர் சாப்பிடும்போது, ​​அனைவரின் ஆர்வமும் அங்கீகாரமும் காணப்பட வேண்டும்.


அரை ஆடை அணிந்த பெண்கள் பிரச்சினையை எழுப்புவது குடிபோதையில் வாகனம் ஓட்டுவது தொடர்பான பிரச்சினையை எழுப்புவது போலவே முக்கியமானது. இருவருக்கும் விபத்து ஏற்படும்.

உங்கள் விருப்பம் வீட்டின் சுவர்களில் மட்டுமே செல்லுபடியாகும். பொது வாழ்க்கையில் நீங்கள் பொது வாழ்க்கையிலிருந்து விலகியவுடன், சிறுவனாக இருந்தாலும் பெண்ணாக இருந்தாலும் சமூக க ity ரவம் வைக்கப்பட வேண்டும். ஒரு சிறிய பெண்ணைப் போல, ஒரு சிறிய மேல் அணிந்து, கிழிந்த குழந்தைகளை அணிந்துகொண்டு, பேஷன் என்ற பெயரில் சுற்றி நடப்பது இந்திய கலாச்சாரத்தின் ஒரு பகுதியாக இல்லை.


வாழ்க்கை என்பது கிட்டார் அல்லது வீணா போன்ற ஒரு கருவியாகும், அதிகமாக இறுக்குவது தவறு மற்றும் அதிக நிதானத்தை விட்டுவிடுவது தவறு.

ஆண்களும் பெண்களும் தகனம் செய்யப்பட வேண்டும், வாகனத்தின் இரு சக்கரங்களுக்கும் சடங்குகளின் காற்று தேவை, ஒரு பஞ்சர் ஏற்பட்டால் வாழ்க்கை தொந்தரவு செய்யப்படும்.

நிர்வாணம் நவீனமாக இருப்பதற்கான அறிகுறியாக இருந்தால், பெரும்பாலான நவீன விலங்குகளுக்கு அவற்றின் கலாச்சாரத்தில் உடைகள் இல்லை. எனவே, விலங்குகளுடன் இனம் காண வேண்டாம், நாகரிகத்தையும் கலாச்சாரத்தையும் ஏற்றுக்கொள்ளுங்கள். நாய்க்கு எங்கும் சிறுநீர் கழிக்க உரிமை உண்டு, ஒரு நாகரிக நபருக்கு இந்த உரிமை இல்லை. அவர் நாகரிக மூடிய கழிப்பறையைப் பயன்படுத்த வேண்டியிருக்கும். இதேபோல், விலங்குக்கு நிர்வாணமாக சுற்றித் திரிவதற்கான உரிமை உண்டு, ஆனால் ஒரு ஒழுக்கமான பெண் அல்லது ஆண் பொது வாழ்க்கையில் சரியான ஆடைகளைப் பயன்படுத்த வேண்டும்.

எனவே, ஒரு தாழ்மையான வேண்டுகோள் உள்ளது, பொது வாழ்க்கையில் வரம்புகளை மீறாதீர்கள், நாகரிகமாக வாழுங்கள்.


சுதந்திரம் எண்ணங்களில் இருக்க வேண்டும். நாடு, மதம் மற்றும் குடும்பத்தின் நலன்களுக்காக செய்யப்படும் வேலையில் சுதந்திரம் இருக்க வேண்டும். யாருடைய தீய கண்களுக்கும் யாரும் விழக்கூடாது என்பதற்காக மாதா பத்மினி 16000 பெற்றோருடன் ஜ au ஹர் செய்கிறார். இன்று, நிர்வாண சந்தைகள் ஒரே நாட்டில் தொடங்கப்படுகின்றன.

உலகம் முழுவதும் நம் கலாச்சாரத்தை ஏற்றுக்கொண்ட இடத்தில், நம் வரம்புகளை மறந்து கொண்டிருக்கிறோம். நாம் எங்கே போகிறோம்? சிந்தியுங்கள் ...

அடுத்து நீங்கள் விரும்புகிறீர்கள்.



 

ಅಪೇಕ್ಷಿತ ವೇಗದಲ್ಲಿ ವಾಹನ ಚಲಾಯಿಸುವ ಹಕ್ಕು ಯಾರಿಗೂ ಇಲ್ಲ, ಏಕೆಂದರೆ ರಸ್ತೆ ಸಾರ್ವಜನಿಕವಾಗಿದೆ. ಅದೇ ರೀತಿ, ಯಾವುದೇ ಹುಡುಗ ಅಥವಾ ಹುಡುಗಿ ತಮಗೆ ಬೇಕಾದ ಬಟ್ಟೆಗಳನ್ನು ಧರಿಸುವ ಹಕ್ಕನ್ನು ಹೊಂದಿಲ್ಲ, ಏಕೆಂದರೆ ಜೀವನವು ಸಾರ್ವಜನಿಕವಾಗಿದೆ. ಏಕಾಂತ ರಸ್ತೆಯಲ್ಲಿ ಚಾಲನೆ ಮಾಡಿ, ಏಕಾಂತ ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಉಳಿಯಿರಿ. ಆದರೆ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಜೀವನದಲ್ಲಿ ನಿಯಮಗಳನ್ನು ಪಾಲಿಸಬೇಕು.

ಒಬ್ಬರ ಸ್ವಂತ ಹೊಟ್ಟೆಯಲ್ಲಿ ಆಹಾರವು ಹೋಗುತ್ತಿರುವಾಗ, ಒಬ್ಬರ ಸ್ವಂತ ಹಿತಾಸಕ್ತಿಗೆ ಅನುಗುಣವಾಗಿ ಮಾತ್ರ ಅದನ್ನು ತಯಾರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ, ಆದರೆ ಆ ಆಹಾರವನ್ನು ಕುಟುಂಬವು ಸೇವಿಸಿದಾಗ, ಪ್ರತಿಯೊಬ್ಬರ ಆಸಕ್ತಿ ಮತ್ತು ಮಾನ್ಯತೆಯನ್ನು ನೋಡಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ.


ಅರೆ ಬಟ್ಟೆ ಧರಿಸಿದ ಹುಡುಗಿಯರ ಸಮಸ್ಯೆಯನ್ನು ಎತ್ತುವುದು ಕುಡಿದು ವಾಹನ ಚಲಾಯಿಸುವ ವಿಷಯವನ್ನು ಎತ್ತುವಷ್ಟೇ ಮುಖ್ಯವಾಗಿದೆ. ಇಬ್ಬರಿಗೂ ಅಪಘಾತ ಸಂಭವಿಸುತ್ತದೆ.

ನಿಮ್ಮ ಆಸೆ ಮನೆಯ ಗೋಡೆಗಳಲ್ಲಿ ಮಾತ್ರ ಮಾನ್ಯವಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಜೀವನದಲ್ಲಿ ನೀವು ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಜೀವನದಿಂದ ಹೊರಬಂದ ತಕ್ಷಣ, ಹುಡುಗ ಅಥವಾ ಹುಡುಗಿಯಾಗಿದ್ದರೂ ಸಾಮಾಜಿಕ ಘನತೆಯನ್ನು ಉಳಿಸಿಕೊಳ್ಳಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ. ಪುಟ್ಟ ಹುಡುಗಿಯಂತೆ ಸ್ವಲ್ಪ ಟಾಪ್ ಧರಿಸಿ, ಮಕ್ಕಳ ಮೇಲೆ ಹರಿದ ಟಾಪ್ ಧರಿಸಿ ಫ್ಯಾಷನ್ ಹೆಸರಿನಲ್ಲಿ ತಿರುಗಾಡುವುದು ಭಾರತೀಯ ಸಂಸ್ಕೃತಿಯ ಒಂದು ಭಾಗವಲ್ಲ.


ಜೀವನವು ಗಿಟಾರ್ ಅಥವಾ ವೀನದಂತಹ ಸಾಧನವಾಗಿದೆ, ಅತಿಯಾಗಿ ಬಿಗಿಗೊಳಿಸುವುದು ತಪ್ಪು ಮತ್ತು ಹೆಚ್ಚು ವಿಶ್ರಾಂತಿ ನೀಡುವುದು ತಪ್ಪು.

ಪುರುಷರು ಮತ್ತು ಮಹಿಳೆಯರು ಇಬ್ಬರೂ ಅಂತ್ಯಕ್ರಿಯೆ ಮಾಡಬೇಕಾಗಿದೆ, ವಾಹನದ ಎರಡೂ ಚಕ್ರಗಳಿಗೆ ವಿಧಿಗಳ ಗಾಳಿ ಬೇಕು, ಒಂದೇ ಪಂಕ್ಚರ್ ಸಂಭವಿಸಿದರೆ ಜೀವನವು ತೊಂದರೆಗೊಳಗಾಗುತ್ತದೆ.

ನಗ್ನತೆಯು ಆಧುನಿಕ ಎಂಬ ಸಂಕೇತವಾಗಿದ್ದರೆ, ಹೆಚ್ಚಿನ ಆಧುನಿಕ ಪ್ರಾಣಿಗಳಿಗೆ ಅವುಗಳ ಸಂಸ್ಕೃತಿಯಲ್ಲಿ ಬಟ್ಟೆಗಳಿಲ್ಲ. ಆದ್ದರಿಂದ, ಪ್ರಾಣಿಗಳೊಂದಿಗೆ ಸ್ಪರ್ಧಿಸಬೇಡಿ, ನಾಗರಿಕತೆ ಮತ್ತು ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಸ್ವೀಕರಿಸಿ. ನಾಯಿಯು ಎಲ್ಲಿಯಾದರೂ ಮೂತ್ರ ವಿಸರ್ಜಿಸುವ ಹಕ್ಕನ್ನು ಹೊಂದಿದೆ, ಸುಸಂಸ್ಕೃತ ವ್ಯಕ್ತಿಗೆ ಈ ಹಕ್ಕಿಲ್ಲ. ಅವರು ಸುಸಂಸ್ಕೃತ ಮುಚ್ಚಿದ ಶೌಚಾಲಯವನ್ನು ಬಳಸಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ. ಅಂತೆಯೇ, ಪ್ರಾಣಿಗೆ ಬೆತ್ತಲೆಯಾಗಿ ತಿರುಗಾಡುವ ಹಕ್ಕಿದೆ, ಆದರೆ ಯೋಗ್ಯ ಮಹಿಳೆ ಅಥವಾ ಪುರುಷನು ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಜೀವನದಲ್ಲಿ ಸರಿಯಾದ ಬಟ್ಟೆಗಳನ್ನು ಬಳಸಬೇಕು.

ಆದ್ದರಿಂದ, ಒಂದು ವಿನಮ್ರ ವಿನಂತಿಯಿದೆ, ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಜೀವನದಲ್ಲಿ ಮಿತಿಗಳನ್ನು ಮೀರಬಾರದು, ನಾಗರಿಕವಾಗಿ ಬದುಕಬೇಕು.


ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯವು ಆಲೋಚನೆಗಳಲ್ಲಿರಬೇಕು. ದೇಶ, ಧರ್ಮ ಮತ್ತು ಕುಟುಂಬದ ಹಿತದೃಷ್ಟಿಯಿಂದ ಮಾಡುವ ಕೆಲಸದಲ್ಲಿ ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ಇರಬೇಕು. ಮಾತಾ ಪದ್ಮಿನಿ 16000 ಪೋಷಕರೊಂದಿಗೆ ಜೌಹರ್ ಮಾಡುವ ಮೂಲಕ ಯಾರ ದುಷ್ಟ ಕಣ್ಣುಗಳಿಗೂ ಯಾರೂ ಬೀಳುವುದಿಲ್ಲ. ಇಂದು, ಅದೇ ದೇಶದಲ್ಲಿ ನಗ್ನ ಮಾರುಕಟ್ಟೆಗಳನ್ನು ಪ್ರಾರಂಭಿಸಲಾಗಿದೆ.

ಇಡೀ ಜಗತ್ತು ನಮ್ಮ ಸಂಸ್ಕೃತಿಯನ್ನು ಎಲ್ಲಿ ಅಳವಡಿಸಿಕೊಳ್ಳುತ್ತಿದೆ, ನಾವು ನಮ್ಮ ಮಿತಿಗಳನ್ನು ಮರೆಯುತ್ತಿದ್ದೇವೆ. ನಾವು ಎಲ್ಲಿಗೆ ಹೋಗುತ್ತಿದ್ದೇವೆ? ಯೋಚಿಸಿ ...

ಮುಂದೆ ನೀವು ಬಯಸುತ್ತೀರಿ.



 

যেমন রাস্তাটি জনসাধারণ, তেমন কারও পছন্দসই গতিতে গাড়ি চালানোর অধিকার নেই। একইভাবে, কোনও ছেলে বা মেয়ের পছন্দ মতো পোশাক পরার অধিকার নেই, কারণ জীবন জনসাধারণের। নির্জন রাস্তায় গাড়ি চালান, নির্জন জায়গায় থাকুন। তবে জনজীবনে নিয়ম মানতে হয়।

যখন খাবার নিজের পেটে চলে যায়, কেবল তখন তার নিজের আগ্রহ অনুসারে এটি তৈরি করা হয়, তবে যখন সেই পরিবার পরিবার খায়, তখন সবার আগ্রহ এবং স্বীকৃতি দেখতে হবে।


আধা-পরিহিত পোশাক পরা মেয়েদের ইস্যু উত্থাপন ততটা গুরুত্বপূর্ণ যেমন মাতাল ড্রাইভিংয়ের বিষয়টি উত্থাপন করা। দুজনেরই দুর্ঘটনা ঘটবে।

আপনার ইচ্ছাটি কেবল বাড়ির দেয়ালগুলিতে বৈধ। আপনি জনজীবনে জনজীবন থেকে সরে আসার সাথে সাথে সামাজিক মর্যাদা, ছেলে হোক বা মেয়ে, তা রাখতে হবে। ছোট্ট মেয়ের মতো বাচ্চাদের ছেঁড়া শীর্ষ পরা ফ্যাশনের নামে ঘুরে বেড়ানো ভারতীয় সংস্কৃতির অঙ্গ নয়।


জীবন গিটার বা বীণার মতো একটি উপকরণও, খুব বেশি শক্ত করা ভুল এবং খুব বেশি শিথিলতা ছেড়ে দেওয়াও ভুল।

পুরুষ এবং মহিলা উভয়কেই শ্মশান দেওয়া দরকার, গাড়ির উভয় চাকাতে আচারের বাতাসের প্রয়োজন হয়, একটি একক পাঞ্চ থাকলে জীবন বিঘ্নিত হয়।

যদি নগ্নতা আধুনিক হওয়ার লক্ষণ হয় তবে বেশিরভাগ আধুনিক প্রাণীর সংস্কৃতিতে কোনও পোশাক নেই। অতএব, প্রাণীদের সাথে প্রতিযোগিতা করবেন না, সভ্যতা এবং সংস্কৃতি গ্রহণ করুন accept কুকুরের যে কোনও জায়গায় ইউরিন পাস করার অধিকার রয়েছে, সভ্য ব্যক্তির এই অধিকার নেই। তাকে সভ্য বদ্ধ টয়লেট ব্যবহার করতে হবে। একইভাবে, প্রাণীর নগ্নভাবে ঘোরাঘুরি করার অধিকার রয়েছে, তবে একটি ভদ্র মহিলা বা পুরুষকে অবশ্যই জনজীবনে যথাযথ পোশাক ব্যবহার করতে হবে।

অতএব, একটি বিনীত অনুরোধ রইল, জনজীবনে সীমা অতিক্রম করবেন না, সুশীলভাবে বেঁচে থাকুন।


স্বাধীনতা চিন্তাভাবনা করা উচিত। স্বাধীনতা দেশ, ধর্ম ও পরিবারের স্বার্থে করা কাজে থাকতে হবে। মাতা পাদমিনি 16000 পিতা-মাতার সাথে জোহর করেন যাতে কেউ কারও দুষ্ট চোখে পড়ে না। আজ একই দেশে নগ্নতার বাজার শুরু হয়।

পুরো বিশ্ব যেখানে আমাদের সংস্কৃতি গ্রহণ করছে, আমরা আমাদের সীমাবদ্ধতাগুলি ভুলে যাচ্ছি। আমরা কোথায় যাচ্ছি? ভাবুন ...

পরবর্তী আপনি চান।



 

જેમ કોઈને ઇચ્છિત ગતિએ વાહન ચલાવવાનો અધિકાર નથી, કારણ કે રસ્તો જાહેર છે. તે જ રીતે, કોઈ પણ છોકરા અથવા છોકરીને પોતાને જોઈતા કપડાં પહેરવાનો અધિકાર નથી, કારણ કે જીવન જાહેર છે. એકાંત રસ્તે વાહન ચલાવવું, એકાંત સ્થળે રોકાવું. પરંતુ જાહેર જીવનમાં નિયમોનું પાલન કરવું પડે છે.

જ્યારે કોઈના પોતાના પેટમાં ખોરાક જાય છે, ત્યારે ફક્ત તેના પોતાના રસ અનુસાર જ તે બનાવવામાં આવશે, પરંતુ જ્યારે તે કુટુંબ દ્વારા ખોરાક લેવામાં આવે છે, ત્યારે દરેકની રુચિ અને માન્યતા જોવી પડશે.


અર્ધ-વસ્ત્રોવાળા કપડા પહેરેલી છોકરીઓનો મુદ્દો ઉઠાવવો તેટલું મહત્ત્વનું છે જેટલું ડ્રંકમાં ડ્રાઇવિંગનો મુદ્દો ઉઠાવવો. બંનેનો અકસ્માત થશે.

તમારી ઇચ્છા ફક્ત ઘરની દિવાલોમાં જ માન્ય છે. જાહેર જીવનમાં જાહેર જીવનમાંથી બહાર નીકળતાંની સાથે જ, સામાજિક પ્રતિષ્ઠા, પછી ભલે તે છોકરો હોય કે છોકરી, રાખવી પડશે. થોડી છોકરી પહેરીને, બાળકોની ફાટેલી ટોપ પહેરીને ફેશનના નામે ફરવું એ ભારતીય સંસ્કૃતિનો ભાગ નથી.


જીવન ગિટાર અથવા વીણા જેવું સાધન પણ છે, વધારે કડક કરવું ખોટું છે અને વધારે છૂટછાટ છોડવી ખોટી છે.

સ્ત્રી અને પુરુષ બંનેને અંતિમ સંસ્કાર કરવાની જરૂર છે, વાહનના બંને પૈડાને સંસ્કારોની હવાની જરૂર છે, જો એક જ પંચર થાય તો જીવન પરેશાન થશે.

જો નગ્નતા આધુનિક હોવાનો સંકેત છે, તો મોટાભાગના આધુનિક પ્રાણીઓની સંસ્કૃતિમાં કપડાં નથી. તેથી, પ્રાણીઓ સાથે રેસ ન લો, સંસ્કૃતિ અને સંસ્કૃતિને સ્વીકારો. કૂતરાને ક્યાંય પણ યુરિન પસાર કરવાનો અધિકાર છે, એક સભ્ય વ્યક્તિને આ અધિકાર નથી. તેમણે સંસ્કારી બંધ શૌચાલયનો ઉપયોગ કરવો પડશે. એ જ રીતે, પ્રાણીને નગ્ન ભ્રમણ કરવાનો અધિકાર છે, પરંતુ એક શિષ્ટ સ્ત્રી અથવા પુરુષે જાહેર જીવનમાં યોગ્ય કપડાંનો ઉપયોગ કરવો જ જોઇએ.

તેથી, એક નમ્ર વિનંતી છે, જાહેર જીવનમાં મર્યાદા વટાવી ન લો, નાગરિક રીતે જીવો.


સ્વતંત્રતા વિચારોમાં હોવી જોઈએ. સ્વતંત્રતા દેશ, ધર્મ અને પરિવારના હિતમાં કરવામાં આવતા કાર્યમાં હોવી જોઈએ. જ્યાં માતા પદ્મિની 16000 માતાપિતા સાથે જૌહર કરે છે જેથી કોઈની પણ દુષ્ટ આંખો માટે કોઈ પડી ન શકે. આજે, તે જ દેશમાં નગ્નતાના બજારો શરૂ થયા છે.

જ્યાં આખું વિશ્વ આપણી સંસ્કૃતિને અપનાવી રહ્યું છે, ત્યાં આપણે આપણી મર્યાદાઓને ભૂલીએ છીએ. આપણે ક્યાં જઇ રહ્યા છીએ? વિચારો ...

આગળ તમે ઈચ્છો છો.



 

ज्याप्रमाणे कोणालाही इच्छित वेगाने वाहन चालविण्याचा अधिकार नाही, कारण रस्ता सार्वजनिक आहे. तशाच प्रकारे, कोणत्याही मुलाला किंवा मुलीला पाहिजे असलेले कपडे घालण्याचा अधिकार नाही, कारण जीवन सार्वजनिक आहे. निर्जन रस्त्यावर जा, निर्जन ठिकाणी रहा. परंतु सार्वजनिक जीवनात नियमांचे पालन केले पाहिजे.

जेव्हा अन्न एखाद्याच्या स्वत: च्या पोटात जात असेल तेव्हा केवळ आपल्या स्वत: च्या इच्छेनुसार ते तयार केले जाईल, परंतु जेव्हा ते कुटुंब कुटुंबाद्वारे खाल्ले जाईल तेव्हा प्रत्येकाची आवड आणि ओळख पहावी लागेल.


अर्ध-कपडे घातलेल्या मुलींचा मुद्दा उपस्थित करणे जितके महत्वाचे आहे तितकेच दारूच्या नशेत ड्रायव्हिंगचा मुद्दा उपस्थित करते. दोघांचा अपघात होईल.

आपली इच्छा केवळ घराच्या भिंतींमध्येच वैध आहे. सार्वजनिक जीवनात सार्वजनिक जीवनातून बाहेर पडताच सामाजिक प्रतिष्ठा, मग तो मुलगा असो की मुलगी, ठेवावा लागेल. लहान मुलीप्रमाणे लहान मुलांचा फाटलेला टोप घालून फॅशनच्या नावाखाली फिरणे भारतीय संस्कृतीत भाग नाही.


जीवन हे गिटार किंवा वीणासारखे साधन देखील आहे, जास्त घट्ट करणे चुकीचे आहे आणि जास्त विश्रांती देणे चुकीचे आहे.

पुरुष आणि स्त्रिया दोघांनाही अंत्यसंस्कार करणे आवश्यक आहे, वाहनाच्या दोन्ही चाकांना संस्कारांची वायु आवश्यक आहे, एकच पंक्चर झाल्यास आयुष्य व्यथित होईल.

नग्नता आधुनिक होण्याचे लक्षण असल्यास, बहुतेक आधुनिक प्राण्यांच्या संस्कृतीत कोणतेही कपडे नसतात. म्हणून, प्राण्यांशी शर्यत घेऊ नका, सभ्यता आणि संस्कृती स्वीकारा. कुत्र्याला कुठेही यूरिन पास करण्याचा अधिकार आहे, एक सुसंस्कृत व्यक्तीला हा अधिकार नाही. त्याला सुसंस्कृत बंद शौचालय वापरावे लागेल. त्याचप्रमाणे, प्राण्याला नग्न फिरण्याचा अधिकार आहे, परंतु सभ्य स्त्री किंवा पुरुषाने सार्वजनिक जीवनात योग्य कपडे वापरणे आवश्यक आहे.

म्हणून, एक नम्र विनंती आहे की सार्वजनिक जीवनात मर्यादा ओलांडू नका, सभ्य राहा.


स्वातंत्र्य विचारात असले पाहिजे. देश, धर्म आणि कुटूंबाच्या हितासाठी केलेल्या कामात स्वातंत्र्य असले पाहिजे. कोणाच्याही वाईट नजरेत कुणालाही पडू नये म्हणून माता पद्मिनी जौहरला 16000 पालकांसह करतात. आज त्याच देशात नग्नता बाजार सुरू आहेत.

जिथे संपूर्ण जग आपली संस्कृती स्वीकारत आहे, तिथे आपण आपल्या मर्यादा विसरत आहोत. आम्ही कुठे जात आहोत? विचार करा ...

पुढे आपली इच्छा.

2 views0 comments