top of page
  • Writer's pictureELA

Our costumes (garments) not only affect our thoughts but also affect other's feelings @@

क्या फर्क पड़ता है ?? पहनावा... एक महिला को सब्जीमंडी जाना था उसने जूट का बैग लिया और सड़क के किनारे सब्जी मंडी की और चल पड़ी। तभी पीछे से एक ऑटो वाले ने आवाज़ दी :

'कहाँ जायेंगी माता जी...? महिला ने ''नहीं भैय्या'' कहा तो ऑटो वाला आगे निकल गया अगले दिन महिला अपनी बिटिया वैष्णवी को स्कूल बस में बैठाकर घर लौट रही थी तभी पीछे से एक ऑटो वाले ने आवाज़ दी :— #बहन_जी जाना है रामनगर क्या...? महिला ने मना कर दिया। पास से गुजरते उस #ऑटोवाले को देखकर महिला पहचान गई कि ये कल वाला ही ऑटो वाला था |

आज महिला को अपनी सहेली के घर जाना था वह सड़क किनारे खड़ी होकर ऑटो की प्रतीक्षा करने लगी तभी एक ऑटो आकर रुका :— #कहाँ_जाएंगी_मैडम...?'' महिला ने देखा ये वो ही ऑटोवाला है जो कई बार इधर से गुज़रते हुए उससे पूंछता रहता है चलने के लिए #महिला_बोली :— हनुमान कॉलोनी है ना सिविल लाइन्स में, वहीँ जाना है, चलोगे...?'' #ऑटोवाला_मुस्कुराते_हुए_बोला :— ''चलेंगें क्यों नहीं मैडम आ जाइये...! "ऑटो वाले के ये कहते ही महिला ऑटो में बैठ गयी ऑटो स्टार्ट होते ही #महिला ने जिज्ञासावश उस ऑटोवाले से पूछ ही लिया :—''भैय्या एक बात बताइये..? दो-तीन दिन पहले आप मुझे माताजी कहकर चलने के लिए पूछ रहे थे कल बहन जी और आज मैडम #ऐसा_क्यों...?' #ऑटोवाला थोड़ा झिझककर शरमाते हुए बोला :—''जी सच बताऊँ... आप चाहे जो भी समझे पर किसी का भी पहनावा हमारी सोच पर असर डालता है। आप दो-तीन दिन पहले साड़ी में थीं तो एकाएक मन में आदर के भाव जागे, क्योंकि मेरी माँ हमेशा साड़ी ही पहनती है इसीलिए मुँह से स्वयं ही "#माताजी" निकल गया कल आप #सलवार_कुर्तें में थीँ, जो मेरी बहन भी पहनती है इसीलिए आपके प्रति स्नेह का भाव मन में जागा और मैंने ''#बहनजी'' कहकर आपको आवाज़ दे दी आज आप #जीन्स_टॉप में हैं, और इस लिबास में माँ या बहन के भाव तो नहीँ जागते इसीलिए मैंने आपको "#मैडम" कहकर पुकारा।


#शिक्षा उपर्युक्त कहानी से हमें यह सीख मिलती हैं कि हमारे परिधान (वस्त्र) न केवल हमारे विचारों पर वरन दूसरे के भावों को भी बहुत प्रभावित करते है। महिला हो या पुरूष आधुनिकता के साथ चलना गलत नही है न ही आधुनिक कपड़े पहनना गलत बस हमे खुद की मर्यादा का ख्याल रखना आवश्यक होता है और ये बात महिला एवं पुरुष दोनों पे लागू होती है।।


How does it matter ?? # Clothing ... A woman had to go to #SabziMandi. She took a bag of jute and walked on the roadside vegetable market. Then an auto from behind gave a #Voice: 'Where will mother go ...? # The woman said "No bhaiyya", then the auto driver stepped forward, the next day the woman was returning home after sitting in her #bitta # Vaishnavi school bus, then an auto from the back gave a voice: -



#Where_Jaangi_Madam ...? "" The woman saw this is the autowala who keeps walking through it several times and keeps asking her to walk. #Woman_Boli: - Hanuman colony is not in civil lines, we have to go, will you go ... ? "# Autowala_muskurate_hue_bola: -" Why won't you come madam ...! "As soon as the auto driver says this, the lady sits in the auto as soon as the auto starts


# The woman inquired of the auto-seller curiously: - "Brother, tell me one thing ..? Two-three days ago, you were asking me to walk as mother, yesterday sister and today madam #say_why_why ...? ' # Autowala hesitated a little and said blushing: - "Yes, tell me the truth ... Whatever you think, the dress of anyone affects our thinking." If you were in a sari two or three days ago, then suddenly a feeling of respect rose in my mind, because my mother always wears a sari.


bottom of page