top of page
  • Writer's pictureELA

Ye Dil Tum Bin Lagta Nahin Lyrics


ये दिल तुम बिन कहीं लगता

नहीं हम क्या करें

ये दिल तुम बिन कहीं लगता

नहीं हम क्या करें

तसव्वुर में कोई बस्ता

नहीं हम क्या करें

तुम्ही कह दो अब ऐ

जानेवफ़ा हम क्या करें


लुटे दिल में दीया जलता

नहीं हम क्या करें

तुम्ही कह दो अब ऐ

जानदा हम क्या करें

ये दिल तुम बिन कहीं

लगता नहीं हम क्या करे


किसी के दिल में बस के

दिल को तड़पाना नहीं अच्छा

किसी के दिल में बस के

दिल को तड़पाना नहीं अच्छा

निगाहों को छलकते देखके

छुप जाना नहीं अच्छा

उम्मीदों के खिले गुलशन को

झुलसाना नहीं अच्छा

हमें तुम बिन कोई जचता

नहीं हम क्या करें

तुम्ही कह दो अब ऐ

जानेवफ़ा हम क्या करें

लुटे दिल में दिया

जलता नहीं हम क्या करें


मोहब्बत कर तो ले लेकिन

मोहब्बत रास आये भी

मोहब्बत कर तो ले लेकिन

मोहब्बत रास आये भी

दिलों को बोहज लगते है

कभी जुल्फों के साये भी

हज़ारों गम हैं इस दुनिया

में अपने भी पराये भी

मुहब्बत ही का गम

तनहा नहीं हम क्या करें

तुम्ही कह दो अब ऐ

जानदा हम क्या करें

ये दिल तुम बिन कहीं

लगता नहीं हम क्या करे


बजा दो आग दिल की या

इससे खुल कर हवा दे दो

बजा दो आग दिल की या

इससे खुल कर हवा दे दो

जो इसका मोल दे पाए

उसे अपनी वफ़ा दे दो

तुम्हारे दिल में क्या है

बस हमें इतना पता दे दो

के अब तनहा सफ़र कटा

नहीं हम क्या करें

लुटे दिल में दीया जलता

नहीं हम क्या करें

ये दिल तुम बिन कहीं लगता

नहीं हम क्या करे.



Ye dil tum bin kahin lagta

Nahi ham kya karen

Ye dil tum bin kahin lagta

Nahi ham kya karen

Tasavvur mein koi bastaa

Nahi ham kya karen

Tumhi kah do ab ae

Jaanewafaa ham kya karen


Lute dil mein diyaa jaltaa

Nahi ham kya karen

Tumhi kah do ab ae

Jaaneadaa ham kya karen

Ye dil tum bin kahin

Lagta nahi ham kya kare


Kisi ke dil mein bas ke

Dil ko tadpaanaa nahi achchhaa

Kisi ke dil mein bas ke

Dil ko tadpaanaa nahi achchhaa

Nigaahon ko chhalakate dekhke

Chhup jaanaa nahi achchhaa

Ummidon ke khile gulashan ko

Jhulsaanaa nahi achchhaa

Humein tum bin koi jachtaa

Nahi ham kya karen

Tumhi kah do ab ae

Jaanewafaa ham kya karen

Lute dil mein diyaa

Jaltaa nahi ham kya karen


Mohabbat kar to le lekin

Mohabbat raas aaye bhi

Mohabbat kar to le lekin

Mohabbat raas aaye bhi

Dilon ko bohj lagate hai

Kabhi zulfon ke saaye bhi

Hazaaron gam hain is duniyaa

Mein apane bhi paraaye bhi

Muhabbat hi kaa gam

Tanhaa nahi ham kya karen

Tumhi kah do ab ae

Jaaneadaa ham kya karen

Ye dil tum bin kahin

Lagta nahi ham kya kare


Bujaa do aag dil ki yaa

Isse khul kar havaa de do

Bujaa do aag dil ki yaa

Isse khul kar havaa de do

Jo isakaa mol de paaye

Use apani wafaa de do

Tumhaare dil mein kya hai

Bas hame itanaa pataa de do

Ke ab tanhaa safar kata

Nahi ham kya karen

Lute dil mein diyaa jaltaa

Nahi ham kya karen

Ye dil tum bin kahin lagta

Nahi ham kya kare.

Tags:

15 views0 comments
bottom of page